बैडमिंटन की प्रेरणा – पुलेला गोपीचंद

आज बैडमिंटन का नाम सुनते है कई खिलाडियों के नाम सामने आ जाते हैं. जिनमें साइना नेहवाल, परूपल्ली कश्यप, पीवी सिंधु और गुरूसाई दत्त मुख्य हैं. इनको बैडमिंटन जगत में बड़ा नाम बनाने के पीछे नाम आता है पुलेला गोपीचंद का. साल 2001 में ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाले दूसरे भारतीय बने.
गोपीचंद ने खेल से संन्यास लेने के बाद गोपीचंद बैडमिंटन एकेडमी शुरू की. जिससे देश को कई नामचीन सितारे मिले हैं. पुलेला गोपीचंद ने 1991 से राष्ट्रीय स्तर पर खेलना शुरू किया. उन्होंने तीन बार 1998 से 2000 तक ′थामस कप′ में भारत का प्रतिनिधित्व किया. उन्होंने कई वर्ल्डकप में हिस्सा लिया. और देश में बैडमिंटन की अलख जगाई. आज इनकी एकेडमी में कई राष्ट्रीय और अन्तराष्ट्रीय कोचिंग लेते हैं

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password