दाँव-पेंचों के गुरु – सतपाल पहलवान

ओलंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार और पहलवान योगेश्वर दत्त सहित कई पहलवानों को अखाड़े तक पहुँचाने का श्रेय अगर किसी को मिलता है तो वह हैं पद्मश्री पहलवान सतपाल. उनके सुशील कुमार समेत 52 अंतरराष्ट्रीय शिष्य हैं। सतपाल तक़रीबन 300 शिष्यों को अपने अखाड़े में कोचिंग देते हैं. कुश्ती के प्रति उनके योगदान के लिए 2001 में उनको द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया.
जब सतपाल के पिता ने देखा कि बच्चे में अच्छी प्रतिभा है, तो उन्होंने छठी क्लास में ही गुरु हनुमान की शरण में भेज दिया. धीरे-धीरे सतपाल कुश्ती और पढ़ाई में रम गए. 1974 से कुश्ती की शुरुआत की. और कई नामी प्रतियोगिताएं भी जीतीं. पहलवान सतपाल ने अपने जीवन में जो कुछ भी सीखा वह आज अपने शिष्यों को सिखा रहे हैं. उनकी ही प्रेरणा की बदौलत आज भारत के पहलवान दुनियाभर में धूम मचा रहे हैं.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password