मिर्जापुर के गोपाल, जिनके गुड्डू-बबलू पूरा कर रहे हैं उनका सपना!

उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर के एक गांव में गोपाल खंडेलवाल नामक व्यक्ति रहते हैं. दिव्यांग हैं, व्हीलचेयर ही उनका सहारा है. लेकिन उनका हौसला बड़े-बड़े दिग्गजों को पस्त कर देगा. वो पिछले बीस सालों से अपने गांव में गुरुकुल चला रहे हैं. जहां वो गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दे रहे हैं.
बनारस के रहने वाले गोपाल खंडेलवाल पढ़-लिखकर एक डॉक्टर बनना चाहते थे. जिसके लिए उन्होंने आगरा के एक मेडिकल कालेज में एडमिशन भी लिया था. लेकिन एक दिन हादसे में उनका आधा शरीर लकवाग्रस्त हो गया. जिससे वो कभी भी अपने पैरों पर खड़े नहीं हो सकते. इस हादसे के 6 महीने बाद ही उनकी माँ का भी निधन हो गया. उनकी माँ ने उनसे यही कहा था कि कभी हार नहीं मानना. यहीं से उन्हें ज़िंदगी दोबारा से जीने कि नई दिशा मिली. और पिछले 20 सालों में उन्होंने लाखों बच्चों को इस लायक बना दिया है कि वो अपने पैरों पर खड़े हो सकें.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password