कोई भी व्यक्ति जाति का ऊँचा या नीचा नहीं होता

चौधरी चरण सिंह राजनीति के साथ-साथ पढाई में भी हमेशा अव्वल रहे थे. जब वो आगरा के आगरा कालेज से एलएलबी कर रहे थे. उस दौरान वो कालेज के ही छात्रावास में रहते थे. उनके साथ उनके सहपाठी भी रहते थे. खाना बनाने के लिए रसोइया आया करता था.


शुरुआत में तो सब ठीक-ठाक चलता रहा. लेकिन जब उनके साथियों को पता लगा कि रसोइया वाल्मीकि समाज से आता है, तो उनके साथियों ने इस बात का विरोध किया. उन्होंने कहा कि कोई नीची जाति का व्यक्ति हमारा खाना नहीं बना सकता. लेकिन चौधरी चरण सिंह उस रसोइए के समर्थन में खड़े रहे. उनके अनुसार कोई भी व्यक्ति जाति का ऊँचा या नीचा नहीं होता है.
साथियों ने उनका भी विरोध किया. लेकिन वो अपनी बात पर अडिग रहे. कुछ सहपाठियों ने तो छात्रावास में बनाने वाला खाना खाना तक बंद कर दिया. हालांकि कुछ समय बाद सभी ने उनकी बातों को मान लिया और उसी रसोइए का बनाया हुआ खाना खाने लगे.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password